यह मंच विभिन्न धर्म, जाति, हैसियत, देश व सोच के लोगों का है जिनका जाने-अनजाने लक्ष्य एक है ठीक वैसे जैसे हजारों धाराएँ, सैंकड़ो नदियाँ आखिर एक ही समुन्द्र में विलीन हो जाती हैं |
Recent Topics

व्यवहार

started by on Mar 17 2017 – Last touched: Mar 17 2017

Mar 17 2017 10:46 pm    

व्यवहार का मतलब आम भाषा में है आदत |
जब एक ही तरह का काम बार-बार किया जाता है तो वह हमारी आदत में शामिल हो जाता है |
जैसे हम कहते हैं कि आप की यह आदत बहुत गंदी है यानी वह हरकत हम बार-बार कर रहे हैं |
एक काम, बात या हरकत कब हमारी आदत बन जाता है हमें पता ही नहीं चलता है |
ऐसा क्यों होता है और हम इसे कैसे बदल सकते हैं |
इस पर आपके कोई भी प्रश्न हो तो लिखिए |

User ratings
5 star:
 
(2)
4 star:
 
(0)
3 star:
 
(0)
2 star:
 
(0)
1 star:
 
(0)
2 ratings
Average user rating:
5.0 stars
(5.0)

Mar 17 2017 11:04 pm

5 stars

kripya batayen hme apni adat ke baare men kyon nahi pta lagta hai.

Mar 17 2017 11:11 pm

क्योंकि वह हमारे दिमाग में अंकित हो जाती है और वह बात या काम अब हमारे लिए आम बात हो जाती है |

Mar 17 2017 11:18 pm

5 stars

बिलकुल सही कहा है | जब कोई भी बात या काम बार-बार किया जाता है तो वह हमारे दिमाग पर अंकित हो जाता है |
जब अंकित हो जाता है तो वह काम या बात हम मशीनी रूप से करते हैं और वह हमारी सोच तक में भी नहीं आता या पहुँचता है |
जब वह हम मशीनी रूप से करते हैं और हमारी सोच तक भी नहीं पहुँचता है तो हमारा ध्यान भी उस ओर नहीं जाता है |
यह तो सुनने वाला या देखने वाला ही बता सकता है जैसे किसी को कंधे हिलाने की आदत होती है |
वह यह कार्य मशीनी रूप से करता है | उसे नहीं ध्यान रहता कि वह ऐसा कर रहा है |
लेकिन सामने वाला बता सकता है कि उसने यह कितनी बार किया |


Form is loading...

This collection ©2018 by Anil Sainger

b2evolution CMS